खबरदार! होशीयार हो जाइए अगर यह हरकत कर डाली तो नहीं मिलेगी राजस्थान में सरकारी नौकरी! 

Spread the love

होशीयार हो जाइए अगर यह हरकत कर डाली तो नहीं मिलेगी राजस्थान में सरकारी नौकरी! 

जी हां दोस्तों होशियार हो जाइए अगर यह हरकत कर डाली तो नहीं मिलेगी राजस्थान में सरकारी नौकरी और रहना पड़ जाएगा जीवन भर के लिए बेरोजगार। महिलाओं, लड़कियों, और बच्चियों, से छेड़छाड़ करने वाले व्यक्ति को राजस्थान राज्य में अब सरकारी नौकरी नहीं मिल पाएगी। छेड़छाड़ करने वाले व्यक्ति के चरित्र प्रमाण पत्र में इस चीज का वर्णन किया जाएगा। चरित्र प्रमाण पत्र खराब होते ही राजस्थान राज्य में कोई भी सरकारी नौकरी नहीं मिल पाएगी।

सरकारी नौकरी / Government Job
Photo Source : Wikimedia

राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी ने देर रात कानून व्यवस्था की बैठक में सभी अफसरों को आदतन मजबूर मनचलों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने के आदेश दे दिए हैं।

राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी ने बैठक में सभी अफसरों से कहा कि महिलाओं और कमजोर वर्ग के लोगों के खिलाफ हो रहे अपराधों को रोकना हमारी सब से पहली प्राथमिकता है। छेड़छाड़ करने वाले मनचलों का रिकॉर्ड मेंटेन किया जाए।
चरित्र प्रमाण पत्र में छेड़छाड़ में लिन होने का वर्णन किया जाए। आदतन मजबूर मनचलों पर राजस्थान राज्य की सभी सरकारी नौकरियों से असमर्थ घोषित करने का एक्शन तक लिया जाए।

आदतन मनचलों का होगा रिकॉर्ड मेंटेन: राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री ने छेड़छाड़ करने वाले आदतन मनचलों को राजस्थान राज्य की सभी सरकारी नौकरियों से असमर्थ घोषित करने के आदेश दे दिए हैं। इसके लिए छेड़छाड़ में शामिल हुए आदतन मजबूर मनचलो का अलग से रिकॉर्ड मेंटेन किया जाएगा। ऐसे लोगों के नाम आरपीएससी और कर्मचारी चयन बोर्ड, को भेज दिए जाएंगे।

इन सब लोगो के नाम डेटाबेस में होंगे ऐसे लोगों के नाम का मिलान करके अगर वह सरकारी नौकरी के लिए अप्लाई करते हैं तो डेटाबेस में उनका नाम मैच होने से उनके आवेदन सीधे ही रिजेक्ट हो जाएंगे। हालांकि राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी के द्वारा अभी सिर्फ मौखिक आदेश दिए गए हैं। इसके लिए भर्ती प्रक्रियाओं और सरकारी नौकरी की पात्रता के नियमों में बहुत कुछ बदलाव करना पड़ेगा।

आदतन मनचलों के खिलाफ चलेगा विशेष अभियान
राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी ने छेड़छाड़ करने आदतन मनचलों के खिलाफ विशेष अभियान चलाने के आदेश दे दिए हैं। स्कूल, कॉलेज, और बाज़रो में आदतन मनचलों पर निगरानी के लिए सिविल ड्रेस में पुलिकर्मियों को तैनात किया जाएगा।

राजस्थान राज्य के जिन क्षेत्रों में आदतन मनचलों की शिकायतें ज्यादा होती है। उन क्षेत्रों में खास तौर पर निगरानी रखवाई जाएगी। कॉलेजो, स्कूल, और बाजारों, में क्षेत्रों के पॉइंट को तय करके वहां पर निगरानी बढ़ा दी जाएगी। जल्दी ही पूरे राजस्थान राज्य में आदतन मनचलों के खिलाफ विशेष अभियान चलाया जाएगा।

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी ने कहा था कि आदतन मनचलों का पक्का इलाज कर देंगे। राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी ने पिछले दिनों ग्रामीण और शहरी ओलंपिक के उद्घाटन समारोह में कहा था कि आदतन मनचलों का वो पक्का इलाज कर देंगे। आदतन मनचले महिलाओं, लड़कियों, और बच्चियों को बहुत परेशान कर देते हैं। हम आदतन मनचलों के नाम आरपीएससी, और कर्मचारी चयन बोर्ड, को भेज देंगे जिससे उनकी राजस्थान राज्य में किसी भी तरह की कोई सरकारी नौकरी नहीं लगेगी।

चुनावी साल में महिलाओ के प्रति हो रहे अपराध के खिलाफ सख्त छवि बनाने का इरादा। महिलाओं के प्रति हो रहे अपराधो को विपक्षी पार्टी बीजेपी ने चुनावी साल में मुद्दा बनाया हुए हैं। राजस्थान राज्य फिलहाल महिलाओं के प्रति हो रहे अपराधों के मामले में भारत के टॉप राज्यों में आता है। राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी अपराध के आंकड़ों के बढ़ने के पीछे अति आवश्यक एफआईआर को जिम्मेदार ठहराते हैं।
चुनावी साल होने के कारण महिलाओं के प्रति हो रहे अपराध अब एक बहुत बड़ा चुनावी मुद्दा बन गया है। कोटड़ी,जोधपुर में हाल ही में हुई रेप के मामलो की गूंज पूरे भारत देश में गूंज रही है।

राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी अब चुनावी साल में महिलाओं के प्रति हो रहे अपराध के मामलो मे सख्त कार्यवाही करने वाली सरकार की इमेज बनाना चाहते हैं।
छेड़छाड़ करने वाले आदतन मनचलों को राजस्थान राज्य की सभी सरकारी नौकरियों से असमर्थ घोषित करना भी इसी इमेज को ठीक करने की कोशिश के तौर पर देखा जाएगा।


Spread the love

Leave a comment